Blog

0 comments on “The Foot Space”

The Foot Space

e79f737f224dbb754569272d10d6d53b

 

A fresh approach to men’s footwear is right around the corner!

#man #comingsoon #findyourcomfort #excited

Sleek lines shape this handsome cap-toe oxford crafted from smooth, rich leather.

Available in Black Burgundy and Graphite.

#man #oxfords#captoe #morgan #blackburgundy #graphite #handcrafted #mensfashion #dapperman #findyourcomfort

The Jensen Velocity sneakers are ideal for the man on the move.

#supremecomfort

#man #jensen #sneakers #velocity #findyourcomfort #swag #mensfashion #mensshoes

Get it on Mystore : 2.0

0 comments on “M.S.Dhoni in Indian Cricket”

M.S.Dhoni in Indian Cricket

Screenshot_2017-11-05-08-53-43

 

#Fan_of_Cricket #Indian_Cricket

#Nostalgic ##Change_for_better

#Captain_Cool_Dhoni

In my (Sanjay Bhutada ) facebook news feed I saw this photo about M.S. Dhoni

This pic exactly sums up the situation of Indian cricket.

When Dhoni was the captain of the Indian cricket team, he was criticized for supporting Shikhar Dhawan and Rohit Sharma.

But he believed in them and now they are one of the most dangerous opening pairs in limited overs cricket.

It shows how his immense faith in them was very logical and based on immense experience and the result is that they have been fruitful for Indian cricket.

Now M.S. Dhoni is probably near the end of his career but he still contributes a lot with his experience and skill.

All his disciples have now become warriors and he is still there with them.!

📝My Blog 🌐 fashion-echo.com

0 comments on “Does Hindu Terrorism Exists?”

Does Hindu Terrorism Exists?

First of all let me tell you in clear words – “Hindu Terrorism or Saffron Terrorism doesn’t exists in the world.”

The term Hindu Terrorism or Saffron Terrorism was firstly coined by Digvijay Singh of Congress Party. He coined these words to counter BJP and RSS by referring them Hindu terror organisations.

You should think by yourself that India have 80% Hindu population. If Hindu terrorism exist in reality, no minority or anti-hindu brigade would have survived and progressed in India. Hindu terrorism does not exist because Hinduism is very peaceful, liberal and secular religion. Hinduism does not differentiate between a Hindu and a Muslim.

The concept of hindu terrorism was given by Congress Party for taking political benefits from it. They have taken so much political benefits from it in the past years. But now everyone know which type of terrorism exist in the world.

Hindus despite being a majority still facing disastrous condition in India. Their sentiments are challenged every year by anti-hindu brigade. Their deities are being mocked by anti-hindu brigade in public rallies, movies and magazines. They have tolerated these things since independence and still tolerating. Now tell me where is saffron terrorism to save the Hindu culture? Saffron terrorism does not exist to challenge anti-hindu brigade of India.

Hindus are very tolerant and secular. This is the height of their tolerance that they are tolerating anti-hindu elements of India without committing any voilance. For example: Few days ago, Congress workers in Kerala publicly butchered Cows to protest against the cattle-sale notification of Modi government. They organised beef festivals. Is this a way to protest against government? They openly challenged the sentiments of Hindus. Now tell me, have you seen any Hindu group terrorising them for their inhuman acts? No. You wouldn’t have seen because Hindu terrorism does not exist.

I accept that there are few fringe Hindu groups in India who are extremists. But before declaring them terrorists, you need to think that why they become extremists? What was the reason they stated hating few groups of society? Why they are protecting Hindu culture? Because their limit of tolerating anti-hindu activities in India have ended. They cannot tolerate more anti-hindu elements. They have understood that Hindu culture is challenged by many so called secular (infact pseudo-secular) Indians. So that’s why they formed groups to protect Hindu culture. In the current scenario, we need such groups because Hindus are ignored by everyone in India. No one is there to stand for us.

Let me tell you that these fringe Hindu groups are not terrorist organisations as claimed by some pseudo-secular and pseudo-liberal Indians. These Hindus have never touched any community without any issue. They answer only when Hindus are challenged. So they did not kill any innocent Indians. Hence these groups are not terrorist organisations. If they slap an anti-hindu element for insulting our Gods they are termed as Hindu terrorists while other real terrorists who are killing millions have no religion. This is the double-standard of our super-secular Indians. These Hindu groups are there to save Hindu culture, not to attack anyone and there is nothing wrong in saving our culture. I think such fringe groups are found in every communities of India. But such Hindu groups are not much extremists as shown by our pseudo-secular media and pseudo-secular intellectuals.

Thanks.

Footnotes:

 

0 comments on “Sardar Vallabhbhai Patel”

Sardar Vallabhbhai Patel

माँ भारती के अनन्य सेवक “लौह पुरुष” सरदार बल्लभ भाई पटेल की जयंती पर भावपूर्ण स्मरण के साथ  श्रद्धाजंलि💐
#Tribute

 

81A4VNe7QxL

Just to give a tiny glimpse of how gigantic the process of Unification might be let me present some facts.

It took 23 years for unification of Italy constituted of 9 provinces that are populated by people of same color, language and religion (to a major portion).

It took Germany 9 years to unite 39 provinces with major occurrence of instances of bloodshed ( close to 10,000 died in the process).

Whereas Vallabhbhai Patelexecuted the Herculean task of uniting more than 500 provinces, the habitats of whom belonged to different religions, contrasting cultures and customs, within 18 months, and that too without any major incidence of bloodshed (the police action in Hyderabad Operation Polo  might be a minor exception but that too was executed with such tactfulness that total death-count from the Indian Army stands at less than 10).

That’s the greatness of this man. But unfortunately history has not done justice to the memory of this great man renowned in the European nations as Bismarck of India.

 

 

0 comments on “What is Niche!?”

What is Niche!?

Finding a Targeted Niche - Magnifying Glass

Niche marketing refers to specialized products or services that answer to the need of a relatively limited target ( compared to mass marketing). Moreover, consumers of niche produits relate to each other (by their hobbies, financial means, location… Or else)
Bitcoin_Niche_Marketing
Mass marketing is more focused on the consumer need to fulfill than the consumer type to target. The target is often wider and less precise.

To make it very simple : a pen is a mass marketing product, while a pen especially designed for left-handed belongs to niche marketing.

 

 

 

How_to_Make_Money_with_Niche_Marketing_-_Tips_for_Making_Money_...

Find & Create your Niche Here !

 

.facebook_1509261805873

0 comments on “Fashio-Leather”

Fashio-Leather

Belted Suede Biker Jacket – Brown

Step out in style with this smart and stylish brown hued Biker Jacket. The buttery soft suede knit fabric along with a full zip closure and waist cinching belt make it a gorgeous winter garb. Work It- Incorporate it with Ripped Jeans and Fishnet Stocking to grab all the limelight.
   ATTRIBUTES
  • Material – Suede
  • Color – Brown

 

Get it Now 📣

 
0 comments on “Fashion-Opium”

Fashion-Opium

#fashion #Eyewear #Sunprotection #Lifestyle #rufashion #Wooplrinfluencer

 

 

.facebook_1509091474982.facebook_1509091458079.facebook_1509091431982.facebook_1509091411104.facebook_1509091385685.facebook_1509091353222

 

#Buyonline #Onlineshopping #Onlinetrends

Sunglasses Edit
From wayfarers to Lenon style round shaped pieces, these sunglasses are fit for every face and style. Pick the right ones and throw a shade to the mundane.

Try : The Fashion Opium

1 comment on “Science behind Narak Chaturdashi !!”

Science behind Narak Chaturdashi !!

कार्तिक मास कृष्ण पक्ष की चौदस,नर्क चतुर्दशी/रूप चौदस कहलाती है
इसदिन श्रीकृष्ण ने नरकासुर का वध कर१६०००कन्याओं को बंदीगृह से मुक्त कराया था !

 

Every #Hindu festival have a # Science along with it’s religious views.

 

Diwali falls at the time when autumn moves into winters, which is just after monsoons in India.

Monsoon is related to profileration fo a wide variety of insects , microbes , vector borne diseases etc .

When the sunlight becomes abundant in after clearing of the skies in September , many of these are destroyed but very small insects and microbes dont. They remain very safe in the crevices of the houses , damp places , dark corners of the house.Thus it becomes imperative to clean the houses – thatch kaccha houses with cowdung , salt water etc and painting the pakka houses with plaster , vitriol ,lime etc becuase both cowdung(of Indian breeds only) and lime are anti bacterial.

 

Still some microbes are left for which oil diyas are lighted in the entire house. The oils used are Mustard and /or Sesame oil , both of which are sufficiently pungent .The heat from the lamps & the odour finishes off the remaining microbes.

 

On the same way , Oil is applied on the body again which is Mustard oil for cleansing of the body.

Puranically doing this protects one from torments of the hell , which in modern world is akin to the torment one faces by infection & diseases.

Also , Sri Hanumaji finished off Ahiravan on this day!

 

IMG_20171018_082320

    Happy Diwali !!

0 comments on “आयुर्वेद के भगवान”

आयुर्वेद के भगवान

dhanvantari-1447053136_355x233

 

 

आयुर्वेद के भगवान!!

ऐसे प्रकट हुए थे भगवान धन्वंतरि, पूजन से देंगे स्वस्थ जीवन का वरदान!

देवताओं और असुरों ने मिलकर समुद्र मन्थन किया, जिसमें मन्दर पर्वत को मथनी के रूप में प्रयुक्त किया और वासुकि नाग को डोरी के रूप में प्रयुक्त कर मन्थन किया।

श्रीमद्भागवत पुराण में एक प्रसंग में कहा गया है कि देवताओं और असुरों ने मिलकर समुद्र मन्थन किया, जिसमें मन्दर पर्वत को मथनी के रूप में प्रयुक्त किया और वासुकि नाग को डोरी के रूप में प्रयुक्त कर मन्थन किया। उसमें एक-एक करके अनेक रत्न उत्पन्न हुए, जिनमें अमृतकलश के साथ धन्वंतरि का प्रकट होना एक महत्तवपूर्ण घटना है।

लगभग इसी तरह का वर्णन महाभारत, अग्निपुराण, विष्णुपुराण, हरिवंशपुराण और ब्रह्मवैवर्तपुराण आदि में है। जिनमें वर्णनशैली में थोड़ा-बहुत अन्तर कर दिया गया है। इन सभी में आलंकारिक वर्णन है जो पुराणों की शैली में इनके देवत्व को प्रतिपादित करने की दृष्टि से अतिशयोक्ति पूर्ण स्वरूप को भी प्रकट करता है। समुद्र मन्थन करना और उसमें वासुकि नाग तथा मन्दराचल का प्रयोग करना आलंकारिक है।

मुख्य उद्देश्य तो अमृत का निर्माण और उसके प्रयोग में दक्ष करना ही है। यहां यह भी उल्लेखित कर देना उपयुक्त होगा कि वेदमर्मज्ञ पं. मधुसूदन ओझा ने इन्द्रविजय नामक ग्रन्थ में लिखा है कि देवों और असुरों में अनेक संग्राम हुए। उनमें 12 महासंग्राम अत्यन्त प्रसिद्ध हैं। इन 12 महायुद्धों में एक महायुद्ध का नाम समुद्रमन्थन (जलधिमन्थन) भी है। अत: समुद्रमन्थन के इस प्रसंग का व्यावहारिक अर्थ किया जायेे तो यह कहा जा सकता है कि इस युद्ध का मूल कारण अमृतमन्थन था।

करें आरोग्य देव के दर्शन
भगवान धन्वंतरि की पूजा सम्पूर्ण भारत में की जाती है, लेकिन उत्तर भारत में इनके बहुत कम मन्दिर देखने को मिलते हैं। वहीं दक्षिण भारत के तमिलनाडु एवं केरल में इनके कई मन्दिर हैं। केरल के नेल्लुवायि में धन्वंतरि भगवान का सर्वाधिक सुन्दर व विशाल मन्दिर है।

केरल के अष्टवैद्यों के वंश में आज भी भगवान धन्वंतरि की पूजा का विशेष महत्व है। इनके अलावा अन्नकाल धन्वंतरि मंदिर( त्रिशूर) धन्वंतरि मंदिर, रामनाथपुरम (कोयम्बटूर), श्रीकृष्ण धन्वंतरि मंदिर(उडुपी) आदि भी प्रसिद्ध हैं। गुजरात के जामनगर व मध्य प्रदेश में भी इनके मंदिर हैं।

धन्वंतरि मंदिर, वालाजपत, तमिलनाडु
तमिलनाडु के वालाजपत में श्री धन्वंतरि आरोग्यपीदम मंदिर स्थापित है। इस आरोग्य मंदिर का निर्माण श्रीमुरलीधर स्वामिगल ने करवाया था। बीमारी के कारण अपने माता-पिता को खो चुके स्वामिगल ने जनसेवा के लिए इस मंदिर की स्थापना की। यहां स्थापित भगवान धन्वंतरि की मूर्ति ग्रेनाइट कला की एक अनुपम कृति है। आरोग्यपीदम की साइट पर लाइव पूजा देख सकते हैं।

तक्षकेश्वर मंदिर, मंदसौर, मध्य प्रदेश
यहां नागराज तक्षक और आरोग्य देव धन्वंतरि की मूर्ति स्थापित है। इस मंदिर के निर्माण के पीछे महाराज परीक्षित की सर्प काटने से मृत्यु और फिर उनके पुत्र जन्मेजय द्वारा नागों से प्रतिशोध की पौराणिक कथा जुड़ी है। माना जाता है कि यहां के स्थानीय वैद्य यहां स्थापित धन्वंतरि देव की प्रतिमा के दर्शन के बाद ही जड़ी-बूटी इकट्ठा करते हैं और इलाज शुरू करते हैं।

आयुर्वेद में कहलाए आरोग्य देव
मद्भागवत पुराण के अष्टम स्कन्ध के छठे अध्याय में स्पष्ट कहा गया है कि क्षीरसागर में तिनके, लताएं आदि जो भी औषधिस्वरूप हों, उन्हें डालकर मन्थन करके अमृत निकालना चाहिए।

यहां यह ध्यान देने योग्य बात है कि विभिन्न औषधियों से अमृत निकालने की विधि उस युग में केवल धन्वंतरि को ही आती थी। अत: धन्वंतरि ने एक विशिष्ट प्रक्रिया से देवों और असुरों के श्रम का सहारा लेकर अमृत निकाला, जिसे होशियारी से केवल देवों ने ही पीया।

बाद में इसी के कारण युद्ध हुआ। जब असुर अमृत प्राप्त न कर सके तो उन्होंने उसी के अनुरूप दूसरा पेय बनाने का प्रयत्न किया जो विशेषज्ञता के अभाव में अमृत न बनकर सुरा स्वरूप पेय बना। इस घटना से धन्वंतरि का महत्तव लोक में प्रतिष्ठित हुआ तथा इसे धन्वंतरि के आविर्भाव से जोड़ा जाने लगा।

यहां यह उल्लेखनीय है कि वेदों में समुद्रमन्थन नामक युद्ध का संकेत है पर धन्वंतरि का कहीं नामोल्लेख नहीं है, इसी तरह पुराणों में समुद्र मन्थन का उल्लेख तो है पर उसे युद्ध न मानकर अमृतमन्थन का क्रियात्मक स्वरूप मान लिया है।

निष्कर्ष रूप में यह कहा जा सकता है कि पुराणों ने अमृत मन्थन के स्वरूप को आलंकारिक शैली में वर्णित किया तथा धन्वंतरि को देवत्व रूप में प्रतिष्ठापित किया। आयुर्वेद में इन्हें आदिदेव धन्वंतरि के रूप में जाना जाता है।

कई स्वरूपों का उल्लेख
हरिवंशपुराण ने समुद्रमन्थन के इस स्वरूप को व्यावहारिकता प्रदान करने का यत्न किया है। इसमें कहा गया है कि समुद्रमन्थन से अब्जदेव (ये धन्वंतरि ही थे) उत्पन्न हुए। ये विष्णु के अंशावतार थे। इनको यज्ञभाग नहीं दिया गया। अत: ये बाद में काश राजा (काशी के राजा) धन्व के पुत्र रूप में उत्पन्न होकर धन्वंतरि कहलाये।

ये अष्टांग आयुर्वेद के ज्ञाता थे। ये प्रसिद्ध एवं लोगों के द्वारा पूजनीय रहे। इनके प्रपौत्र दिवोदास नाम के राजा हुए जो आयुर्वेदज्ञ थे तथा विशेष रूप से शल्यशास्त्र के विशेषज्ञ भी थे। आयुर्वेदज्ञ होने के कारण दिवोदास ने अपने प्रपितामह धन्वंतरि का नाम अपने उपनाम के रूप में प्रयुक्त किया।

इन दिवोदास धन्वंतरि ने सुश्रुत, औपधेनव, औरभ्र आदि सात शिष्यों को शल्यप्रधान आयुर्वेद का ज्ञान दिया, जो आज भी प्रतिसंस्कार के बाद उपलब्ध है। इसके अतिरिक्त एक प्रसंग और भी है जिसमें एक धन्वंतरि, गालव ऋ षि की मन्त्रशक्ति से उत्पन्न हुए थे। इतिहास में विषवैद्य के रूप में भी एक धन्वंतरि का उल्लेख है।

निष्कर्ष रूप में यह कहा जा सकता है कि चार भुजाओं वाले अमृतकलश को धारण करने वाले समुद्र मन्थन से आविर्भूत आदिदेव धन्वंतरि है तथा प्रसिद्ध शल्यशास्त्री आयुर्वेदोपदेष्ता दिवोदास धन्वंतरि सुश्रुत के गुरु और काशी के राजा हुए हैं। दोनों ही पूज्य हैं। धन्वंतरि त्रयोदशी के दिन आदिदेव चतुर्भुज धन्वंतरि की पूजा कर आरोग्य और अमृत की कामना की जाती है।

विद्वानों के विभिन्न मत
आयुर्वेद एक जीवन विज्ञान है तथा सृष्टि के प्रारम्भ से ही इसका अस्तित्त्व रहा है। यद्यपि इसके प्रारम्भिक प्रवर्तक के रूप में एकमत से ब्रह्मा को ही स्वीकृत किया गया है। इसके बाद भूतल पर इसके प्रचार प्रसार में किस देवता या ऋषि का योगदान है, इसमें भिन्न-भिन्न मत हैं, पर वर्तमान काल में आयुर्वेद के आराध्य भगवान् धन्वंतरि है, इसमें कहीं भी दो राय नहीं है।

संसार का सबसे प्राचीन ग्रन्थ ऋग्वेद है, जिसमें आयुर्वेद का पर्याप्त वर्णन है, पर इसमें चिकित्सक या आयुर्वेद प्रवर्तक के रूप में कहीं भी धन्वंतरि का नाम नहीं है। विभिन्न पुराणों में धन्वंतरि का आविर्भाव समुद्रमन्थन से ही माना गया है।

Image Source: Google

Content Source : Quora , Wiki

Special Thanks : NIMA