पितृऋण

 

पितृ-पक्ष पर अपने पितरों को जल जरुर चढ़ाइए, और हो सके तो थोड़ा दान पुण्य भी करिए। धार्मिक कारणों से तो ये महत्वपूर्ण है ही, इसका अपना एक तार्किक कारण भी है।

 

c7394ae41043f9318630f0099ab82243

सोचियेये जब आपके पूर्वजों के आस पास के लोगों का तलवार के दम पर धर्मांतरण करवाया जा रहा था, और दूसरी ओर चावल की बोरियों के एवज में उन्हें दूसरे देवताओं का रास्ता दिखाया जा रहा था तब उन्होंने अपने धर्म को बचाने की ठानी। ना वो डरे, ना लोभ में पड़े। और सनातन धर्म पथ पर अडिग रहे, इसके लिए वो सम्मान के उत्तराधिकारी हैं।

eefb15a2d4fe38d8ad631b4bd1522267

d424b3f4cc01db0541b1a9d03cf66b56

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s